Best Friend. सच्ची दोस्ती. बच्चों की कहानी। bacchon ki kahani. 1

Spread the love

 

Best Friend. सच्ची दोस्ती. बच्चों की कहानी। bacchon ki kahani.
 

 

Best Friend.

सच्ची दोस्ती. बच्चों की कहानी। bacchon ki kahani.

 

सच्ची दोस्ती का मतलब है कि मुसीबत के समय भी वह हमारे साथ है। दुःख के समय में भी वह हमारे साथ है। सभी दोस्त एक जैसे नहीं होते हैं। कुछ दोस्त सिर्फ नाम नाम के दोस्त होते है। अगर कोई हमारे काम आए तो इस लगता है कि वो हमारे ऊपर अहसान कर रहा हो।  तो कुछ हमारा सच्चा दोस्त होता है।

 

 हमें हमेशा अच्छे और सच्चे दोस्त बनाने चाहिए।  हमें कभी भी बुरे और बुरे दोस्तों के साथ नहीं जुड़ना चाहिए। अगर हम अच्छे और सच्चे दोस्तों की संगति में हैं, तो हमें अच्छे विचार मिलेंगे। हम अच्छी भाषा और व्यवहार सीखेंगे।

 

 महेश और सुरेश दो दोस्त थे। महेश और सुरेश दोनों बहुत करीबी दोस्त थे। सुरेश पैसों के मामले में थोड़े ऊँचे स्थान पर था जबकि महेश एक मिडल क्लास था।  एक दिन महेश मुश्किल में पड़ गया।  उनके रिश्तेदारों, दोस्तों और अन्य लोगों ने भी उन्हें छोड़ दिया। समस्या पैसों की थी, इसलिए उसकी किसीने मदद नहीं कि। उन्हें तत्काल 15000 रुपये की आवश्यकता थी। उनके पास पाँच हजार रुपये थे।

 

 इतनी बड़ी राशि एकत्र करना आसान नहीं था। सुरेश पैसों के मामले में अमीर था। महेश को तत्काल पैसे की जरूरत थी इसलिए वह उसके पास गया।

 

 यहां तक ​​कि जब वह सुरेश की घर की सीढ़ियां चढ़ रहा था तो वह थोड़ा चिंतित और डरा हुआ था। कि सुरेश क्या सोचेगा।  हालाँकि, उसने साहस किया और उसके घर में प्रवेश किया। सुरेश ने महेश को देखा और तुरंत खड़े हो गए और उसे गले लगाया और नाश्ते, चाय और पानी के लिए कहा। फिर उसने यहाँ आने का कारण पूछा।  तो उन्होंने तुरंत महेश से पूछा कि क्या कोई समस्या है।

महेश ने अपना सिर नीचे रखा और हाँ कहा। उन्होंने कहा कि मुझे तुरंत 10 रुपये की आवश्यकता है। सुरेश ने कहा कि बस इतनी सी बात। सुरेश ने अपने पिता को बताया और महेश को दस हजार रुपये दिए। रास्ते में जाते जाते मन ही मन बोलने लगा इसे कहते है सच्ची दोस्ती। 

 

आपको यह कहानी केसी लगी। हमे comment कर के जरुर बताए। ओर अपने सच्चे दोस्त को shere जरूर करे। 


सच्ची दोस्ती.

बच्चों की कहानी। bacchon ki kahani.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *